ओडिशा में आज से 14 दिनों के लिए संपूर्ण लॉकडाउन, जानिए क्या खुला है क्या बंद रहेगा


भुवनेश्वर: कोरोना महामारी की दूसरी लहर से बचने के लिए ओडिशा में आज से 14 दिनों का लॉकडाउन लागू हो गया है. ओडिशा की नवीन पटनायक सरकार ने 14 दिनों के लिए कंपलीट लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है. सूबे में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते नए मामलों की वजह से सरकार ने यह कदम उठाया है. मुख्य सचिव एससी मोहपात्रा की ओर से एक जारी आदेश में कहा गया है कि वीकेंड को छोड़कर सभी अन्य दिनों में जरूरी सेवाएं उपलब्ध रहेंगी.

सरकार की ओर से जारी आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि लोगों को सुबह 6 बजे से दोपहर 12 बजे के बीच उनके घरों के 500 मीटर के दायरे में जरूरी चीजे खरीदने की इजाजत दी जाएगी. वीकेंड के दौरान वे सिर्फ चिकित्सीय सेवाओं के लिए ही घर से बाहर निकल सकेंगे. लॉकडाउन और वीकेंड कर्फ्यू किसी भी चुनाव संबंधी कार्य पर लागू नहीं होगा. जैसे, पिपिली विधानसभा सीट पर उपचुनाव कराने में शामिल कर्मियों की आवाजाही जारी रहेगी, पिपिली में 16 मई को उपचुनाव होना है. आदेश में कहा गया है कि लॉकडाउन का मकसद आम लोगों की आवाजाही को नियंत्रित करना है और सामान लाने-जाने वाली गाड़ियों पर कोई पाबंदी नहीं होगी.

इस दौरान ओडिशा में सभी सिनेमा हॉल, मॉल, मार्केट कॉम्प्लेक्स, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, सैलून, थिएटर, पार्क, बार, ऑडिटोरियम, असेंबली हॉल, मीरा बाजार सब बंद रहेंगे. सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, सांस्कृतिक, धार्मिक व अन्य सभाओं पर प्रतिबंध लगाया गया है. अखबार बांटने के लिए सुबह 5 से 8 बजे के बीच अनुमति दी गई है. 

ओडिशा में कोविड के अबतक करीब 5 लाख केस आए
ओडिशा में 8,216 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के बाद मंगलवार को संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,79,752 हो गयी. वहीं, संक्रमण से 15 और लोगों के दम तोड़ने से मृतक संख्या बढ़कर 2,088 हो गयी है. नए मामलों में 4,684 की पुष्टि पृथक-वास केंद्रों में और 3,532 मामलों की जानकारी संक्रमितों के संपर्क में आये लोगों की पहचान के दौरान हुई.

राजधानी भुवनेश्वर में खुर्दा जिला में सबसे अधिक 1271 नए मामले सामने आए. इसके बाद सुंदरगढ़ (636), कटक (447) और पुरी (402) में मामले आए. बाकी मामले कई अन्य जिलों से हैं.

ये भी पढ़ें-
देश में कोरोना के कारण हाल बेहाल, जानिए किन-किन राज्यों में है लॉकडाउन या सख्त पाबंदियां

ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतों पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी, कहा- ये नरसंहार से कम नहीं



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *