फ्लिपकार्ट करेगी ग्रॉसरी सेगमेंट में एंट्री, शुरू किया पायलट प्रोजेक्ट


स्केचर्स ने कोर्ट की तरफ से नियुक्त लोकल कमिश्नर्स की मदद से दिल्ली और अहमदाबाद में सेलर्स के सात वेयरहाउसेज में छापे मारे, जहां उन्हें 15,000 जोड़ी नकली स्केचर्स के जूते मिले.

फिल्पकार्ट के हेड ऑफ़ मार्केटप्लेस अनिल गोतेती ने बताया कि फ्लिपकार्ट ने बेंगलुरु में एक पायलट प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया है, वह किराने के सेक्टर में प्रवेश करने जा रहा है.

भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी जल्द ही ग्रॉसरी सेगमेंट में एंट्री करने जा रही है. फिल्पकार्ट के मार्केटप्लेस हेड अनिल गोतेती बताते हैं कि कंपनी ने बेंगलुरु में ग्रॉसरी सेगमेंट को लेकर एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू कर दिया है, और जल्द ही इसे पूरे इंडिया में लॉन्च करने की योजना है. इनोवेटिव आइडिया के साथ शुरू करेंगे नया सेगमेंट कंपनी का कहना है कि उसका ये कांसेप्ट नया और इनोवेटिव है, ये कांसेप्ट भारत के लोगों के लिए बिलकुल नया होगा, हम कुछ ही महीनों में ग्रॉसरी बेचना शुरू कर देंगे. यूजर बेस बढ़ाकर 50 करोड़ करने का लक्ष्यउन्होंने कहा कि हमारी ई-कॉमर्स साइट्स पर 10 करोड़ से अधिक यूजर्स है. हमने अगले कुछ साल में अपना यूजर बेस बढ़ाकर 50 करोड़ तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है.
अनिल ने बताया कि 28 लाख से अधिक यूनिक कस्टमर्स के साथ, दक्षिणी भारत के आंध्र प्रदेश और तेलंगाना जैसे राज्यों ने फ्लिपकार्ट को भारत के सबसे बड़ी और सबसे तेजी से बढ़ने वाली कंपनी बना दिया है. जबकि, हैदराबाद, विशाखापत्तनम, विजयवाड़ा, नेल्लोर, गुंटूर और तिरुपति ई-कॉमर्स बिजनेस का सबसे ज्यादा उपभोग करने वाले शहर हैं. जीएसटी से नहीं हुआ कोई भी नुकसान जीएसटी से जुड़े एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जीएसटी ने उनकी बिक्री को प्रभावित नहीं किया है और फ्लिपकार्ट के सभी विक्रेताओं ने अपने आपको जीएसटी में रजिस्टर करा चुके हैं. ये भी पढ़े: दुनिया में चीन के शेयर बाजारों का प्रदर्शन सबसे खराब, बेस्ट रिटर्न के मामले में भारत नंबर-2 ग्रेच्युटी पर टैक्स छूट 20 लाख करेगी सरकार, प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को मिलेगी राहत









Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *