मनी मैनेजमेंट: कोरोना काल में अपना पूरा पैसा एक ही जगह न करें निवेश, इन 7 बातों का ध्यान रखेंगे तो नहीं होगी पैसों से जुड़ी परेशानी


  • Hindi News
  • Business
  • Investment During Covid 19 Crisis In India; Seven Things To Know Before Invest

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली9 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना की दूसरी लहर के कारण देश में फिर एक बार लॉकडाउन लगाया गया है। इसका असर लोगों की कमाई पर पड़ा है और लोगों को पैसों से जुड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आने वाले दिनों में ये परेशानियां और भी बढ़ सकती हैं। इससे निपटने के लिए जरूरी है कि आप इसकी तैयारी पहले से कर लें। ताकि भविष्य में पैसों की तंगी से निपटा जा सके। हम आपको बता रहे हैं कि ऐसी स्थिति से निपटने के लिए आपको क्या करना चाहिए।

इमरजेंसी फंड बनाएं
अगर किसी वजह से आप आर्थिक संकट के शिकार बन जाते हैं तो आपको अपने घर खर्च के लिए कम से कम 3 महीने के लिए जरूरी रकम एक इमरजेंसी फंड में रखना चाहिए। यह फंड आप बैंक के सेविंग अकाउंट या म्यूचुअल फंड के लिक्विड फंड में बना सकते हैं। इस फंड का इस्तेमाल सिर्फ इमरजेंसी में ही करें।

लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस है जरूरी
मेडिकल इंश्योरेंस आपको समय पर पर्याप्त मदद मुहैया कराता है। आर्थिक संकट के दौर में अगर आप या आपके परिजनों के सामने कोई मेडिकल इमरजेंसी की स्थिति आती है तो आप हेल्थ पॉलिसी के दम पर इसे आसानी से पार कर पाएंगे। अगर आपके पास हेल्थ पॉलिसी नहीं होगी तो आप परेशानी में फस सकते हैं। वहीं अगर आपको कुछ हो जाता है तो लाइफ इंश्योरेंस आपके परिवार को वित्तीय सुरक्षा देगा।

भविष्य में इस तरह की स्थिति के लिए तैयार रहें
कोरोना क्राइसिस से हमें फिजूल खर्ची बंद करनी सीखनी होगी। इसके लिए आप बाहर खाने की फ्रीक्वेंसी घटा सकते हैं और छुट्टियों पर अपने खर्च को घटा सकते हैं। इसके अलावा फिल्म देखने, शॉपिंग जैसे बहुत से काम जो आप रोजमर्रा की जिन्दगी में करते थे, उसे कुछ समय के लिए टाल दें। इससे आप पैसा बचा सकते हैं जो भविष्य में इस तरह के किसी भी संकट से निपटने में आपकी मदद करेगी।

फालतू कर्जा लेने से बचें
इस विपरीत समय में बिना कारण या जरूरत से ज्यादा फालतू कर्जा या लोन लेने पर आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। कोरोना काल में कई लोग अपने क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं भर सके और न ही अपने लोन की किस्त जमा कर सके हैं। इससे क्रेडिट स्कोर भी खराब होता है और ब्याज भी बढ़ता है। इसीलिए भविष्य में कोरोना जैसी किसी परेशानी में आर्थिक समस्या से बचने के लिए फालतू कर्ज लेने से बचना चाहिए।

एक ही जगह न लगाएं पूरा पैसा
कभी भी अपना पूरा पैसा एक ही जगह निवेश नहीं करना चाहिए। आपको अपने पोर्टफोलियो में विविधता रखनी चाहिए, क्योंकि जरूरी नहीं कि आपने जहां पैसा लगाया है वो आपको रिटर्न दे ही। मान लीजिए आप दो जगह 100-100 रुपए निवेश करते हैं। पहले से आपको 10% का रिटर्न मिला और दूसरी जगह से 5% का नुकसान हुआ। तो ऐसे में भी आप फायदे में ही रहेंगे। वहीं अगर पहले से आपको 10% का नुकसान और दूसरी जगह से 5 फीसदी का फायदा हुआ। तो ऐसे में भी दूसरी जगह से हुआ फायदा आपके नुकसान को कम कर देगा।

खर्चों के लिए बजट तैयार करके उसका पालन करें
किसी भी तरह की वित्तीय समस्या से निपटने के लिए वित्तीय अनुशासन बहुत जरूरी है। वित्तीय अनुशासन के लिए आपको अपने मासिक खर्चों के लिए एक बजट तैयार करना चाहिए और महीने के अंत में वास्तविक खर्चों के साथ बजट की तुलना करनी चाहिए। यह तुलना आपको एहसास कराएगी कि आपने उस महीने में क्या फिजूल खर्च किया है। इससे आप अपने फिजूल खर्चों को कंट्रोल कर सकेंगे। इससे आपको ज्यादा बचत करने में मदद मिलेगी।

पार्टनर को दें अपने निवेश की जानकारी
आपने जहां भी और जितना भी निवेश कर रखा है इसकी जानकारी अपनी जीवनसाथी को दें। ताकि वो विपरीत समय में उसका उपयोग कर सके। अगर आप अपने जीवन साथी को अपने निवेश या सम्पत्ति के जानकारी नहीं देते हैं और आपको कुछ हो जाता है तो वो उनके काम नहीं आ सकेगी और आपका निवेश किसी काम का नहीं रहेगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *