Detoxifying Tips: होली में कहीं ज्यादा तो नहीं खा ली गुजिया-मिठाई, कुछ इस तरह करें शरीर को साफ और रिचार्ज


Post Holi Detox: रंगों का त्योहार होली मजा करने, खाने-पीने, रंगों और पानी के साख खेलने के बारे में है. होली के मौके पर खास दावत में परोसे गए गुजिया, मिठाई और शराब सेवन के बाद शरीर को डिटॉक्स करने का समय है. त्योहारी मौसम में जंक फूड का इस्तेमाल भी डायरिया और ब्लोटिंग की वजह बन सकता है. अगर आपको बहुत ज्यादा सुस्ती छा रही है, तब आप धनिया का पानी पीकर शरीर को डिटॉक्स करने की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं. होली के बाद शरीर की सफाई और रिचार्ज करने के लिए कई उपाय किए जा सकते हैं.

खुद को हाइड्रेट करें- गैर अल्कोहल और गैर शुगर युक्त बहुत ज्यादा तरल पदार्थों को पीएं. त्योहार आम तौर से मिठाई खाने या शराब पीने से जुड़ा होता है और दोनों डिहाइड्रेट करते हैं क्योंकि उससे बार-बार पेशाब लगती है. पेशाब करते वक्त इलेकट्रोलाइट्स की कमी होती है जो थकान के प्रमुख कारण होते हैं. डिहाइड्रेशन के लिए सबसे अच्छा तरल पदार्थ सादा पानी है जो आपके शरीर के लिए जरूरी होता है. थोड़ा नमकीन ड्रिंक्स को मिलाकर भी आप तेजी से कम हुए इलेक्ट्रोलाइट्स की मात्रा को हासिल कर सकते हैं. ताजा नींबू पानी में थोड़ा नमक, ताजा नारियल पानी, साफ सूप और कांजी जैसे कुछ अन्य अच्छे विकल्पों को अपनाया जा सकता है.

ताजा घरेलू भोजन खाएं- न सिर्फ ड्रिंक्स बल्कि सभी तला, मसालेदार होली की पार्टी के व्यंजन में आपके पाचन को खराब करने की प्रवृत्ति होती है. ताजा हल्का भोजन खाना सिस्टम को व्यवस्थित करने में में मदद करता है और आपके शरीर को पोषक तत्वों के साथ ऊर्जा का संचार करता है. हल्के आहार में ताजा मौसमी सब्जियां, दाल के साथ तड़का, खिचड़ी शानदार स्रोत होंगे और इसी तरह मसाले जैसे जीरा और अजवाइन के साथ हल्का पुलाव भी शामिल होगा. दोनों आपकी गैस और ब्लोटिंग की समस्या को दूर करने में मदद करेंगे. नए सिरे से शुरू करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी ऊर्जा आपके शरीर को ऐसे आहार से मिलेगी.

सबसे पहले आंत की बारी- हमारे मूड और सेहत के एहसास को प्रभावित करनेवाला हमारा आंत है. अगर पाचन सही से काम नहीं कर रहा है, तब चिंता करने की जरूरत है क्योंकि हमारा शरीर पोषक तत्वों को अवशोषित करने में सक्षम नहीं हो सकता. पाचन तंत्र की खराबी के लक्षणों जैसे ब्लोटिंग, गैस और दस्त को दूर करने के लिए मौसमी फल, नरम सब्जियां, साबुत अनाज से मिलनेवाले फाइबर का इस्तेमाल करें क्योंकि ये हमारे मल-त्याग को आसान बनाते हैं. फाइबर स्वस्थ बैक्टीरिया को भोजन मुहैया कराकर निकलने में मदद भी करता है. आंत में होनेवाली बैक्टीरिया की भरपाई के लिए दही सुपर भोजन है. गाजर की कांजी जैसे ड्रिंक्स से भी इलेक्ट्रेलाइट्स के साथ प्री और प्रो बायोटिक्स मिलते हैं.

आराम को प्राथमिकता दें-आराम भी पूरे सिस्टम को फिर से शुरू करने का शानदार जरिया है. मात्रा से बढ़कर गुणवत्ता है. विज्ञान बताता है कि नींद का चक्र अंधेरे और रोशनी से संबंधित है. अच्छी नींद के लिए आरामदायक अंधेरे कोना को ढूंढे और चारपाई बिछा लें. एक ग्लास गर्म दूध भी आपको ट्राइप्टोफैन देगा जो सेरोटोनिन और मेलाटॉनिन नामक रसायन को प्रेरित करता है, जो दोनों नींद पैदा करते हैं. इस दौरान, आपको हल्की म्यूजिक, मंत्रों का जाप या ध्यान को शांत स्थिर करने के लिए मेडिटेशन भी कर सकते हैं.

क्या प्लाज्मा थेरेपी से निमोनिया के गंभीर मामलों में मिलती है मदद? शोधकर्ताओं ने किया खुलासा

कोविड वैक्सीन बनाने पर CSIR का फैसला, तीन कंपनियों के साथ मिलकर विकसित करेगी तकनीक

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *